Welcome

Latest Happening News/Activities

मुख्यमंत्री देसंविवि में साहित्य विस्तार पटल का करेंगे उद्घाटन

...

देसंविवि के १३वाँ वार्षिकोत्सव- 
देवसंस्कृति विश्वविद्याल...

देवसंस्कृति विश्वविद्यालय के राष्ट्रीय सेवा योजना (एनएसएस) विभाग लालढांग में विशेष कैम्प ...


शोधार्थियों ने माना कि योग से बदल सकता है जीवन
देवसंस्कृति ...

देवसंस्कृति विश्वविद्यालय में फूलों की होली मनाई गयी। वहीं छात्र- छात्राओं ने सांस्कृतिक कार्यक्रमों के माध्यम से होली के ...
Our Projects
"Cleaning and conservation of all rivers of INDIA including Ganga" Objective A humble attempt to depict the agony of rivers to its alert sons. Social awareness for conservation and protection of water resources in the state.

Read More....

Sensitive, Moral and Patriotic Young Generation Cultural Values Development Sunday School for Kids For Physical, Mental, Intellectual and Spiritual development of our future generation.Introduce children to human values and our rich cultural heritage.

Read More....

Awareness about Environment and health;Healthy Body - Pure Mind;Shriram Memorial Garden, Clean-Green and Healthy Environment;Dasa kupa samo vapi dasavapi samo hrida.Dasa hrida sama putra dasa putra samo druma.A step-well is equivalent to ten wells. A lake equals to ten step-wells.A son’s importance is equal to ten lakes but much higher a deed is to plant a single tree.

Read More....

India's Soul lives in villages. Formation of real India is possible through an Individual to Family, Family to Village & Village to Country. Our rich village culture of Cooperation & Coexistence has been spoiled by Global Culture penetration, Political & Market Forces. It results in dirty environment, illiteracy, dependence, unhealthiness, lack of unity & migration to cities. Now villages are leaning and cities inflating. "Remedy for the Problem given by Param Pujya Gurudev Pt. S

Read More....

Search and Involve Healthy, Sensitive, Courteous Youngsters in aforesaid programs The biggest capital of any nation is its youth power. To make BHARAT a super power of the world, Yuva Prakosth of Gayatri Pariwar is carrying out the task of connecting youth by Yuva Chetna Jaagrati Abhiyan.That means youth will be added to our network from each district and the qualities of culture, health, serenity and orientation towards service will be inculcated in them. These youth shall then be involve

Read More....

Under the reformative projects of Yug Nirman Yojana (Movement for the Reconstruction of the Era), All World Gayatri Pariwar has successfully worked in many parts of India towards eradication of blind faith, religious fundamentalism, addictions, insane customs like dowry, expensive marriages and funeral rites, etc. Mass awareness about these problems is created by the organization of large-scale deep (lamp) yagnas, religious functions and Pragya Puran Kathas (Narrations of the script

Read More....

Merely the ability of a company to outsmart competitors time and again that and over a long period of time can no more be described as corporate excellence. In this critical phase of rapid economic growth and deteriorating sustainable resources, every organization is looking for newer horizons to maintain the cutting edge. Corporate Culture is “the act of developing intellectual and moral faculties and putting them into practice.”

Read More....

विश्व के नवनिर्माण के लिये एक संपूर्ण पीढ़ी के निर्माण की आवश्यकता है। व्यक्ति से समाज, समाहज से देश और देशों से विश्व का निर्माण होता है। वर्तमान परिवर्तन के दौर में मनुष्य ने साधन सुविधाओं

Read More....

India is on the threshold of a major transformation. It has all the possibilities of leading the whole world in every field. This is because India has the largest population of youth in the entire world.
Youth have always played a phenomenal role whenever a nation has earned distinctions in specific fields and attained great accomplishments.
DIYA aims at providing an idealistic vision of nation building by the youth through self development. India has led the world in ancient times through its unique culture. By adopting its basic principles in the modern context, India can definitely regain its position.
 देश की ७०% जनता ग्रामवासी है, ग्रामोत्थान के बिना राष्ट्रोत्थान कैसे होगा? राष्ट्रसेवी ग्रामसेवा में जुटें
    ‘विश्वं पुष्टं ग्रामे अस्मिन अनातुरम्।’ - अथर्ववेद
अर्थ :- इस गाँव में आतुरता रहित परिपुष्ट विश्व हो।
भावार्थ :- जैसे विश्व अपने आप में समग्र-परिपूर्ण है, वैसे ही गाँव भी पुष्ट (समर्थ) और आतुरता (चिंता-परेशानी) रहित एक समग्र इकाई के रूप में विकसित-स्थापित हों। 
आदर्श ग्राम कैसा ?
सरकारी स्तर पर भी आदर्श ग्रामों की चर्चा की जाती रही है। उनके अनुसार गाँव में सड़क, बिजली, पानी, शिक्षा, चिकित्सा जैसी स्थूल सुविधाएँ पहुँचा देने भर से गाँव को आदर्श गाँव माना जा सकता है। उसमें गाँव में रहने वालों के चिंतन, चरित्र, व्यवहार को बेहतर बनाने का कोई सूत्र नहीं है। सुविधा एवं सम्पन्नता बढ़ना जरूरी तो है, लेकिन मानवीय विकास की दृष्टि से पर्याप्त नहीं। यदि नर-नारियों की प्रवृत्तियाँ ठीक न हों तो प्राप्त सुविधा-साधनों से सुख-शांति की जगह अहंकार और आपाधापी बढ़ने लगते हैं। सुख-शांति, संतोष के लिए बाहर के संसाधनों के साथ व्यक्ति और समाज में सत्प्रवृत्तियाँ भी जरूरी समझी जाती हैं। इसलिए अपने कार्यक्रम में आदर्श ग्राम की परिभाषा कुछ इस प्रकार की गयी है-
‘‘संस्कारयुक्त, व्यसन-कुरीति मुक्त, स्वच्छ, स्वस्थ, सुशिक्षित, स्वावलम्बी, सहयोग-सहकार से भरापूरा गाँव।’’

Success Stories
पूजा तो सभी भाव से करते हैं, बस उसके स्वरूप निराले होते हैं। विपत्ति निवारण और सुख-समृद्धि की प्रार्थना को तो केवल भक्त का भगवान ही सुनता और फल देता है, लेकिन श्री रामेश्वरम धाम में नगर वासियो

Read More....

गायत्री परिवार के संस्थापक युग ऋषि पंडित श्रीराम शर्मा आचार्यजी की जन्म शताब्दी के तहत नदीयो के शुद्धिकरण का महाअभियान संपूर्ण देश में चल रहा है। इसकी शुरुआत मध्यप्रदेश की जीवनदायिनी नदी

Read More....

अखिल विश्व गायत्री परिवार के सामाजिक हितचिंतन एवं पर्यावरण परिक्षण के दर्शन दृष्टिगत , नेपाल के काठमांडौ शहर के गायत्री परिवार सदस्यों की पहल से वहाँ की स्थानीय नदी बागमती की स्वच्छता कार्

Read More....

 गायत्री परिवार की मुलताई शाखा ने नर्मदा शुद्धिकरण अभियान की तर्ज पर ताप्ती शुद्धिकरण अभियान चलाया है । १८ नवम्बर को मुलताई के ताप्ती के उद्गम पर स्थित मंदिर पर विधि-विधान पूर्वक ताप्ती स्

Read More....

स्वच्छ अयोध्या हरित अयोध्या का संकल्प लेकर भगवान श्री राम की पावन जन्मभूमि अयोध्या में आदर्श ग्राम्य विकास के अंतर्गत ६ मई को सम्पूर्ण स्वच्छता अभियान चलाया गया। इस अभियान में नेपाल एवं उत

Read More....

गायत्री परिवार के कर्मठ एवं निष्ठावान कार्यकर्ताओं द्वारा पूरे देश एवं अन्य देशों में चलाये जा रहे पर्यावरणीय आंदोलनों में से एक है “ वृक्ष गंगा आंदोलन “। पर्यावरण के तीन मुख्य घटकों, जल जंग

Read More....






Program Request Form

Click for hindi Typing
Upcoming Events
Upcoming Workshop
Articles
Our Mega Project
Patron
Present Mentor
Latest Download

Yuva Jaagrati Abhiyan Brochure

Download A Creative Movement for Moral, Intellectual and Cultural Awakening of the Future Leaders of the Nation.
  • Size:7 MB
  • Format:PDF
  • Lang:Hindi
  • DIYA Brochure

    Download To create Divine India by year 2020, by unleashing the Youth potential and directing the same to righteous path.
  • Size:5 MB
  • Format:PDF
  • Lang:English